बिजली विभाग की लापरवाही से करंट की चपेट में आने से भैंस की हुई मौत

रीवा@न्यूज़:-सरकार द्वारा हर साल करोड़ों रु. की राशि मेंटीनेंस नाम पर विद्युत विभाग को दी जाती है, लेकिन बिजली विभाग की खोटी नीयत पूरे राशि को डकार जाती है। नतीजतन यही नीयत और अलमस्त लापरवाही पूरे बिभाग को कलंकित कर रही है, क्योंकि नीचे से लेकर ऊपर तक के आला अधिकारी अपनी झोली भरने में जुटे हुए हैं, जिसका परिणाम गरीब उपभोक्ताओं को भुगतना पड़ रहा है,आये दिन हजारों एकड़ गरीब किसानों की फसल, जलकर खाक हो जाती है,साथ ही माल मवेशियों के करेंट लगने से मौत हो जाती है, और गरीब अपने मवेशियों एवं परिवार के नेवाले से हाँथ धो बैठता है,और जब इसकी शिकायत संबंधित अधिकारियों को दी जाती है तो शार्ट सर्किट का बहाना बनाकर अपना पल्ला झाड़ लेते हैं ।
ऐसी ही वारदात का एक ताजा उदाहरण 23 मई 2019 दिन गुरुवार को उस समय देखने को मिला जब बवन्धर निवासी शोभनाथ यादव की भैंस दोपहर  के 3 बजे पानी पीने के लिए गई तो किरहाई चौराहे के समीप सड़क के किनारे  लगे बिजली के पोल वा स्टे में करंट प्रवाहित हो रहा था,जो सड़क के नीचे स्थिति नाले में भरे पानी तक विद्युत धारा प्रवाहित हो रही थी,ग्रामीणों ने बताया कि साथ मे तीन भैंसें थी जब एक भैंस पानी पीने के लिए नाले में उतरी तो करेंट लगने से बाहर नही निकल सकी, जब भैंस जोर से चिल्लाई तो ग्रामीणों ने अन्य भैंसों को नाले में जाने से रोक दिया,और बड़ी तत्परता के साथ लाइनमैन को फोन करके बुलाया और पोल में उतरे करेंट को 3 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद ठीक करवाया।
उक्त घटना से व्यथित शोभनाथ यादव ने अगले दिन शुक्रवार को जवा थाने जाकर रिपोर्ट दर्ज करवाई और साथ ही पशु चिकित्सालय जवा को लिखित सूचना दी। बिजली विभाग जवा को एक लिखित सूचना देकर करेंट से मरी भैंस की  मुआवजे की मांग की है।जिसकी कोई सुनवाई आज दिन तक नहीं हो पाई है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *