सोन नदी के गऊघाट तट पर रेत का अवैध उत्खनन एवं परिवहन करने के लिए जेसीबी के साथ हाईवा को टास्क फोर्स टीम ने दी दबिस

मध्यप्रदेश ब्यूरो कृष्ण कुमार गुप्ता
9424689669,9131867348

सोनांचल रिपोर्टर, सीधी/सीधी-घडिय़ालो के पालने के लिए आरक्षित सोन नदी से रेत की अवैध निकासी के लिए रेत माफिया प्रशासन के शिकंजा कसने के बाद भी सक्रिय है। ऐसा ही मामला सोमवार की देर रात सामने आया। सोन नदी के गऊघाट तट पर रेत का अवैध उत्खनन एवं परिवहन करने के लिए जेसीबी के साथ हाईवा पहुंचा। इसकी भनक पाते ही जिला टास्क फोर्स टीम ने दबिस कार्रवाई करते हुए रात करीब 12 बजे सोन नदी तट पर खड़े जेसीबी एवं हाईवा को जप्त कर लिया। जप्त करने के बाद इन वाहनों को कमर्जी थाना परिसर में खड़ा करा दिया गया। जब कार्रवाई करने की बात आई तो खनिज,पुलिस,राजस्व और वन विभाग के अधिकारियों ने अपने हांथ खड़े कर लिए। काफी देर तक अधिकारियों के बीच तर्क चलता रहा। लेकिन कोई भी कार्रवाई करने के लिए तैयार नही हो रहा था। खनिज एवं पुलिस के अधिकारियों का कहना था कि मौके पर हाईवा में रेत लोड नही था ऐसे में वह कार्रवाई नही कर सकते। अंत में सोन घडिय़ाल के अधिकारी ने कार्रवाई करने का जि मा अपने ऊपर लिया। दरअसल कलेक्टर रवीन्द्र कुमार चौधरी के निर्देश पर पूरे जिले में रेत के अवैध उत्खनन एवं परिवहन को लेकर टास्क फोर्स टीम द्वारा रात में भ्रमण कर कार्रवाई की जा रही है। टास्क फोर्स टीम का ज्यादातर भ्रमण सोन नदी तटों पर ही केन्द्रित है। चुरहट एवं रामपुर नैकिन क्षेत्र में चुरहट एसडीएम राजेश मेहता के मार्गदर्शन में दबिस कार्रवाई करते हुए टीम द्वारा दर्जनों वाहनों को रेत के अवैध परिवहन में पाये जाने पर उन्हे जप्त करते हुए संबंधित थाना परिसरों में खड़ा कराया गया है। अवैध रेत परिवहन करते पाये जाने वाले वाहनों पर खनिज एवं पुलिस विभाग द्वारा मामला पंजीबद्ध करते हुए कार्रवाई की गई है। सोन घडिय़ाल अ यारण्य द्वारा इस मामले में हाईवा चेचिस नंबर  एमएटी 448090 सी-3325306 ,जेसीबी चेचिस नंबर टी08 एच 03440 के विरूद्ध वन्य जीव संरक्षण 1972 की धारा 27,29,39डी,51 एवं भारतीय वन अधिनियम 1927 की धारा 2,41,52 के  तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर कार्रवाई की जा रही है। कार्रवाई में नायब तह चुरहट शिवशंकर शुक्ला,शिशिर यादव माईनिंग,कमर्जी थाना प्रभारी,कोतवाली पुलिस जीपी साकेत परिक्षेत्राधिकारी, तरुण सिंह वनपाल, वनरक्षक रमेश कुमार सोनकर, वनरक्षक कमलापति त्रिपाठी, वनरक्षक संजीव कुमार सोनकर,यग्यभान पटेल भूपूसै, वाहन चालक जगमोहन पाल, वाहन चालक राजकिशोर सिंह,नागेन्द्र सिंह शामिल रहे।

रेत परिवहन में लगे बिना नंबर के वाहनरेत के अवैध परिवहन में लगे वाहनों के नंबर प्लेट से नंबर पूरी तरह से अस्पष्ट  रहता है। इसके लिए नंबर प्लेटों में मिट्टी की पुताई कर दी जाती है जिससे लोगों को  नंबर के संबंध में कोई जानकारी न मिल सके। टास्क फोर्स टीम द्वारा भी रेत के अवैध परिवहन में लगे जिन वाहनों को पकड़ा जा रहा है उनमें अधिकांशता: के नंबर प्लेट कार्रवाई के दौरान स्पष्ट नही थे। नंबर प्लेट की पहचान मिटाकर वाहनों में अवैध रूप से रेत का परिवहन किया जा रहा है। सीधी शहर समेत ग्रामीण क्षेत्रों में भी इस तरह के वाहन लोगो की निगाह में आ रहे है। नंबर न होने के कारण लोग इस संबंध में स्पष्ट रूप से सूचना भी नही दे पाते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *